booked.net
Expressnews7

कैसे करनी चाहिए मकर संक्रांति की पूजा, जानिये 2017 में कब है पूजा का शुभ मुहूर्त

कैसे करनी चाहिए मकर संक्रांति की पूजा, जानिये 2017 में कब है पूजा का शुभ मुहूर्त

2017-01-07 12:39:59
कैसे करनी चाहिए मकर संक्रांति की पूजा, जानिये 2017 में कब है पूजा का शुभ मुहूर्त

हिंदु धर्म में मकर संक्रांति को हर्सोल्लास के साथ मनाया जाता है।हर साल मकर संक्रांति 14 या 15 जनवरी को पड़ता है। इस दिन भारत के विभिन्न हिस्सो में खिचड़ी खाई जाती है। तिल और लाई का दान किया जाता है। इस दिन आप तिल आदि का दान तो करते हैं खिचड़ी भी खाते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं मकरसंक्रांति के दिन तिल दान करने और खिचड़ी खाने की परंपरा कब से शुरु हुई? आखिर मकरसंक्रांति से क्या कुछ पुण्य की प्राप्ति होती है?
अगला
1. सूर्य का राशि बदलना
हिंदू धर्म शास्त्र अनुसार जब सूर्य एक राशि से दूसरे राशि में प्रवेश करता है। उसे संक्रांति कहते हैं। इस दिन सूर्य एक राशि से दूसरे राशि में प्रवेश करता है। जिस राशि में सूर्य प्रवेश करता है उसे संक्रांति की संज्ञा मिलती है।

2. सूर्य मकर राशि में करता है प्रवेश
14 जनवरी के दिन या इसके आसपास सूर्य मकर राशि में प्रवेश करते हैं इसलिए इसे मकर संक्रांति कहा जाता है। मकर संक्रांति के दिन दान-पुण्य करने का विधान है, मान्यता है कि ऐसा करने से पितर प्रसन्न होते हैं और मनुष्य के पुण्य-कर्मों में वृद्धि होती है।

3. एक मात्र दिखने वाले देव हैं सूर्य
हिन्दू धर्म के अनुसार संसार के दिखाए देने वाले देवों में से एक भगवान सूर्य की गति इस दिन उत्तरायण हो जाती है। मान्यता है कि सूर्य की दक्षिणायन गति नकारात्मकता का प्रतीक है और उत्तरायण गति सकारात्मकता का। गीता में यह बात कही गई है कि कि जो व्यक्ति उत्तरायण में शरीर का त्याग करता है, उसे मोक्ष प्राप्त होता है।

4. पवित्र है मकर संक्रांति का दिन
मकर संक्रांति के दिन ही गंगाजी भागीरथ के पीछे-पीछे चलकर कपिल मुनि के आश्रम से होकर सागर में जा उनसे मिली थीं। इसके अलावा महाभारत काल के भीष्म पितामह ने भी अपना देह त्यागने के लिए मकर संक्रांति के पावन दिन का ही चयन किया था।

5. प्रकृति से भी जुड़ा है रसस्य
आध्यात्मिक महत्व होने के साथ इस पर्व को लोग प्रकृति से जोड़कर भी देखते हैं जहां रोशनी और ऊर्जा देने वाले भगवान सूर्य देव की पूजा होती है।

6. इस तरह करना चाहिए व्रत
मकर संक्रांति के व्रत की संक्षिप्त विधि का वर्णन भविष्यपुराण में मिलता है। इसके अनुसार सूर्य के उत्तरायण या दक्षिणायन के दिन संक्रांति व्रत करना चाहिए। संक्रांति के तिल को पानी में मिलाकार स्नान करना चाहिए, अगर संभव हो तो गंगा स्नान करना चाहिए। इसके बाद भगवान सूर्यदेव की पूजा-अर्चना करनी चाहिए। ऐसा करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है।

7. पितरों को तर्पण करना चाहिए
साथ ही संक्रांति के पुण्य अवसर पर अपने पितरों का ध्यान और उन्हें तर्पण अवश्य प्रदान करना चाहिए। मकर संक्रांति के दिन स्नान के बाद भगवान सूर्यदेव का स्मरण करना चाहिए। इनका स्मरण करने के लिए गायत्री मंत्र के अतिरिक्त निम्न मंत्रों से भी पूजा की जा सकती है: ऊं सूर्याय नम: ऊं आदित्याय नम: ऊं सप्तार्चिषे नम:

8. 2017 का शुभ मूहूर्त
मकर संक्रांति का पर्व वर्ष 2017 में 14 जनवरी को मनाया जाएगा। संक्रांति के दिन पुण्य काल में दान देना, स्नान करना या श्राद्ध कार्य करना शुभ माना जाता है। इस साल यह शुभ मुहूर्त 14 जनवरी को सुबह 7 बजकर 50 मिनट से लेकर दोपहर 05 बजकर 57 मिनट तक का है।


अगर धमकी देने वाले गलत तो भंसाली पर भी हो कार्रवाई-योगी

अगर धमकी देने वाले गलत तो भंसाली पर भी हो...

अगर धमकी देने वाले गलत तो भंसाली पर भी हो कार्रवाई-योगी

आजम खान ने पद्मावती को बताया नचनिया, कहा डर गये पगड़ी वाले राजा

आजम खान ने पद्मावती को बताया नचनिया, कहा...

आजम खान ने पद्मावती को बताया नचनिया, कहा डर गये...

IFFI 2017: गोवा में लगी सितारों की महफिल

IFFI 2017: गोवा में लगी सितारों की महफिल

IFFI 2017: गोवा में लगी सितारों की महफिल

गिड़गिड़ाते किशोर पर नहीं आया रहम, पुलिस का थर्ड डिग्री टॉर्चर

गिड़गिड़ाते किशोर पर नहीं आया रहम, पुलिस...

गिड़गिड़ाते किशोर पर नहीं आया रहम, पुलिस का थर्ड...

स्कूल यूनिफॉर्म पहनकर नहीं आया तो टांगों पर चला दी कैंची

स्कूल यूनिफॉर्म पहनकर नहीं आया तो टांगों...

स्कूल यूनिफॉर्म पहनकर नहीं आया तो टांगों पर चला...

 भाजपा और सपा नगर निकाय चुनाव में झोंक रही पूरी ताकत

भाजपा और सपा नगर निकाय चुनाव में झोंक रही...

भाजपा और सपा नगर निकाय चुनाव में झोंक रही पूरी...

ExpressNews7