Expressnews7

शराब कारोबारी विजय माल्या को भारत लाने की पूरी कोशिश में जुटी सरकार

शराब कारोबारी विजय माल्या को भारत लाने की पूरी कोशिश में जुटी सरकार

2017-12-04 06:39:16
शराब कारोबारी विजय माल्या को भारत लाने की पूरी कोशिश में जुटी सरकार

लंदन। भारत में भगोड़ा घोषित हो चुके शराब कारोबारी विजय माल्या को भारत लाने के लिए सरकार पूरी कोशिश में लगी है। इसी कड़ी में माल्या के प्रत्यार्पण मामले की सुनवाई ब्रिटेन की कोर्ट में आज से सुनवाई शुरू होगी। यह सुनवाई यहां के वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में होगी।

माल्या विभिन्न बैंकों के करीब 9,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के मामले में भारत में वांछित हैं। वह मार्च 2016 से ब्रिटेन में रह रहे हैं। इस मामले में लंदन की पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया था लेकिन बाद में 650,000 पाउंड (करीब 5.65 करोड़ रुपये) की जमानत पर छोड़ दिया गया।

कोर्ट में माल्या की तरफ से बैरिस्टर क्लेयर मोंटगोमेरी के नेतृत्व में वकीलों की टीम पैरवी करेगी। सोमवार को मामले की सुनवाई शुरुआती दलीलों के साथ शुरू होगी। इसके बाद विमानन क्षेत्र के विशेषज्ञ डॉ. बी हम्फ्रेज की गवाही होगी। माल्या की तरफ से अन्य गवाहों में फोर्स इंडिया फार्मूला वन रेसिंग टीम की मुख्य एकाउंटेंट मार्गरेट स्वीनी, भारतीय विधि प्रणाली के विशेषज्ञ प्रोफेसर लाउ और चिकित्सक और स्कॉटलैंड जेल व्यवस्था के पूर्व चिकित्सा अधिकारी डॉ. एलन मिशेल शामिल होंगे।

अक्टूबर में सट्टेबाज संजीव चावला के प्रत्यर्पण मामले में डॉ. मिशेल की गवाही का काफी प्रभाव पड़ा था। वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट ने जेल में मानवाधिकार उल्लंघन के आधार पर चावला के प्रत्यर्पण को खारिज कर दिया था। माल्या के मामले में पूर्व में सुनवाई के दौरान चीफ मजिस्ट्रेट एम्मा लुइस अर्बुथनॉट ने जेल की स्थितियों को लेकर चिंता जताई थी। भारत की तरफ से पेश क्राउन प्रोसीक्यूशन सर्विस (सीपीएस) ने कोर्ट को प्रत्यर्पण के बाद माल्या की सुरक्षा को लेकर भारतीय अधिकारियों द्वारा आश्वस्त किए जाने की जानकारी दी।

जज अर्बुथनॉट की अध्यक्षता में माल्या के प्रत्यर्पण मामले की सुनवाई होगी। सुनवाई 14 दिसंबर तक सूचीबद्ध है। हालांकि इस मामले में अगले साल की शुरुआत में फैसला आने की उम्मीद है। माल्या के प्रत्यर्पण के पक्ष में फैसला आने के बाद ब्रिटेन के गृह मंत्री को दो महीने के भीतर प्रत्यर्पण का आदेश देना होगा। हालांकि प्रत्यर्पण आदेश जारी होने से पहले यह मामला कई कोर्ट अपील से होकर गुजरेगा। भारत और ब्रिटेन के बीच 1992 में प्रत्यर्पण संधि हुई थी, लेकिन अब तक केवल एक ही प्रत्यर्पण हुआ है।

ब्रिटेन में शराब कारोबारी विजय माल्या के प्रर्त्यपण मामले की सुनवाई के दौरान केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) की एक टीम भी मौजूद रहेगी। सूत्रों ने बताया कि विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के नेतृत्व में यह टीम रविवार को लंदन रवाना हो गई।


शाहजहांपुर में निर्माणाधीन इमारत गिरने से कई मजदूर दबे,1 की मौत,कई गम्भीर रूप से धायल

शाहजहांपुर में निर्माणाधीन इमारत गिरने...

शाहजहांपुर में निर्माणाधीन इमारत गिरने से कई...

सिंचाई मन्त्री ने प्रमुख अभियन्ता को दी चेतावनी,पत्र लिखकर कहा बिना पूछे न करे कोई आदेश

सिंचाई मन्त्री ने प्रमुख अभियन्ता को दी...

सिंचाई मन्त्री ने प्रमुख अभियन्ता को दी चेतावनी,पत्र...

उर्दू शिक्षकों की भर्ती हुई रद्द, आदेश हुआ जारी

उर्दू शिक्षकों की भर्ती हुई रद्द, आदेश...

उर्दू शिक्षकों की भर्ती हुई रद्द, आदेश हुआ जारी

शिवपाल यादव ने कहा मुलायम किसी भी पार्टी से चुनाव लड़ें हम करेंगे समर्थन

शिवपाल यादव ने कहा मुलायम किसी भी पार्टी...

शिवपाल यादव ने कहा मुलायम किसी भी पार्टी से चुनाव...

 राजधानी लखनऊ में दो सगे भाइयों की गोली मारकर हत्या

राजधानी लखनऊ में दो सगे भाइयों की गोली...

राजधानी लखनऊ में दो सगे भाइयों की गोली मारकर हत्या

मथुरा प्रशासन से माँगा गया ‘कान्हा’ का बर्थ सर्टिफिकेट

मथुरा प्रशासन से माँगा गया ‘कान्हा’ का...

मथुरा प्रशासन से माँगा गया ‘कान्हा’ का बर्थ सर्टिफिकेट

ExpressNews7