Expressnews7

PM मोदी के रहते मुस्लिम महिलाओं के साथ नहीं होगा अन्‍याय: रविशंकर प्रसाद

PM मोदी के रहते मुस्लिम महिलाओं के साथ नहीं होगा अन्‍याय: रविशंकर प्रसाद

2017-12-28 07:41:26
PM मोदी के रहते मुस्लिम महिलाओं के साथ नहीं होगा अन्‍याय: रविशंकर प्रसाद

नई दिल्ली: लोकसभा में कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद प्रश्नकाल के बाद मुस्लिम महिला बिल यानी ट्रिपल तलाक बिल को पेश करेंगे. ये बिल गुरुवार को लोकसभा में पेश करने के लिए लिस्ट कर दिया गया है. इस बिल को लेकर राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है और विधेयक में बदलाव की मांग भी उठने लगी है. वहीं केंद्रीय संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने बुधवार को सभी विपक्षी पार्टियों से सदन में तीन तलाक विधेयक को पारित करने में सहयोग देने का आह्वान किया.

तीन तलाक बिल पर कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सांसदों को ब्रीफ किया है. उन्‍होंने कहा है कि पीएम मोदी के रहते किसी मुस्लिम महिला के साथ अन्याय नहीं होगा. उन्‍होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कानून बनाने को कहा था और उसी के आदेश का पालन हो रहा है.

इंस्टैंट ट्रिपल तलाक पर वरिष्ठ वकील और राज्यसभा सांसद केटीएस तुलसी ने कहा है कि विधेयक में एक बार में तीन तलाक़ के दोषियों के लिए 3 साल तक की सज़ा का प्रावधान गलत है. उनके मुताबिक, बिल में दोषियों के लिए 2 हफ़्ते तक की सजा का प्रावधान होना चाहिए. प्रारूप में ये संज्ञेय और गैरज़मानती है, जिसे असंज्ञेय और ज़मानती किया जाना चाहिए और पीड़ित महिला को अपने पति के घर में रहने का अधिकार होना चाहिए. वहीं समाजवादी पार्टी ने मांग की है कि सरकार को विधेयक लाने से पहले ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड समेत सभी पक्षों से बातचीत करनी चाहिए. पर्सनल लॉ बोर्ड बिल के प्रारूप को खारिज़ कर चुका है और सरकार ने उनसे बात भी नहीं की. कानून में सबकी चाहतों को तरजीह मिलनी चाहिए.
2011 की जनगणना के मुताबिक, देश में 8.4 करोड़ मुस्लिम महिलाएं हैं और हर एक तलाकशुदा मर्द के मुकाबले 4 तलाक़शुदा औरतें हैं. 13.5 प्रतिशत लड़कियों की शादी 15 साल की उम्र से पहले हो जाती है और 49 प्रतिशत मुस्लिम लड़कियों की शादी 14 से 29 की उम्र में होती है. वहीं 2001-2011 तक मुस्लिम औरतों को तलाक़ देने के मामले 40 फीसदी बढ़े है.
तीन तलाक बिल पर AIMPLB का कहना है कि मुस्लिम पक्ष की राय क्यों नहीं ली गई?, महिलाओं की परेशानी बढ़ानेवाला बिल, शरीयत के ख़िलाफ़ तीन तलाक़ बिल, शौहर जेल में होगा तो ख़र्च कौन देगा?, जब तीन तलाक़ अवैध तो सज़ा क्यों?, किसी तीसरे की शिकायत पर केस कैसे?, जिसके साथ बच्चे का भला हो, उसके साथ रहे.
केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बीते 15 दिसंबर को ‘मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक’ को मंजूरी प्रदान की थी. गृहमंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता वाले अंतर-मंत्रालयी समूह ने विधेयक का मसौदा तैयार किया था. इस समूह में वित्त मंत्री अरूण जेटली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद और कानून राज्य मंत्री पी पी चौधरी शामिल थे.
इस विधेयक के तहत एक बार में तीन तलाक को ‘गैरकानूनी और अमान्य’ करार दिया गया है. इसके मुताबिक एक बार में तीन तलाक देने वाले पति को तीन साल की जेल की सजा होगी. विधेयक के प्रावधानों के अनुसार पति पर जुर्माना लगाया जाएगा और जुर्माने की राशि मजिस्ट्रेट तय करेगा.
इस कानून के मुताबिक, सिर्फ एक बार में तीन तलाक के मामले में लागू होगा और इससे पीड़िता को अधिकार मिलेगा कि वह अपने और नाबालिग बच्चों के लिए ‘उचित गुजारा भत्ते’ की मांग करते हुए मजिस्ट्रेट से संपर्क कर सके.
इस कानून के मुताबिक, महिला अपने नाबालिग बच्चों का संरक्षण भी मांग सकती है, हालांकि इस बारे में फैसला मजिस्ट्रेट करेगा.
22 अगस्त 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने एक बार में तीन तलाक को गैरकानूनी और असंवैधानिक करार दिया था. प्रस्तावित कानून के मसौदे के अनुसार किसी भी तरह से दिए गए तीन तलाक को गैरकानूनी और अमान्य माना जाएगा, चाहे वह मौखिक अथवा लिखित तौर पर दिया गया हो या फिर ईमेल, एसएमएस और व्हाट्सऐप जैसे इलेक्ट्रानिक माध्यमों से दिया गया हो.
सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले इस साल एक बार में तीन तलाक के 177 मामले सामने आए थे और फैसले के बाद 66 मामले सामने आए. इसमें उत्तर प्रदेश सबसे आगे रहा. इसको देखते हुए सरकार ने कानून की योजना बनाई.


नरेंद्र मोदी सूरज हैं अखिलेश यादव फ्यूज बल्ब-- धर्मपाल सिंह

नरेंद्र मोदी सूरज हैं अखिलेश यादव फ्यूज...

नरेंद्र मोदी सूरज हैं अखिलेश यादव फ्यूज बल्ब--...

बिचैलियों को हर हाल में गेहूं खरीद केन्द्रों से दूर रखा जाए--C.M

बिचैलियों को हर हाल में गेहूं खरीद केन्द्रों...

बिचैलियों को हर हाल में गेहूं खरीद केन्द्रों से...

बिचैलियों को हर हाल में गेहूं खरीद केन्द्रों से दूर रखा जाए--C.M

बिचैलियों को हर हाल में गेहूं खरीद केन्द्रों...

बिचैलियों को हर हाल में गेहूं खरीद केन्द्रों से...

निशुल्क योग शिविरों में योग के साथ साथ होगी क्षेत्रीय विकास पर चर्चा

निशुल्क योग शिविरों में योग के साथ साथ...

निशुल्क योग शिविरों में योग के साथ साथ होगी क्षेत्रीय...

सेप्टेज एवं ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के लिए नीति बनायी जायेगी---सुरेश खन्ना

सेप्टेज एवं ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के लिए...

सेप्टेज एवं ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के लिए नीति बनायी...

लोक अदालत के सफल आयोजन की जिम्मेदारी न्यायिक अधिकारियों की -ब्रजेश पाठक

लोक अदालत के सफल आयोजन की जिम्मेदारी न्यायिक...

लोक अदालत के सफल आयोजन की जिम्मेदारी न्यायिक अधिकारियों...

ExpressNews7