Expressnews7

कृषक हित में ऐतिहासिक निर्णय,अब फसल की लागत का डेढ़ गुना मूल्य पायेंगे किसान -सूर्य प्रताप शाही

कृषक हित में ऐतिहासिक निर्णय,अब फसल की लागत का डेढ़ गुना मूल्य पायेंगे किसान -सूर्य प्रताप शाही

2018-07-04 16:29:55
 कृषक हित में ऐतिहासिक निर्णय,अब फसल की लागत का डेढ़ गुना मूल्य पायेंगे किसान -सूर्य प्रताप शाही

लखनऊ--उ0प्र0 के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने बताया कि मोदी सरकार ने किसानों से किया वादा निभाया, अब लागत का डेढ़ गुना या उससे अधिक मूल्य मिलेगा किसान भाईयों को। लम्बे समय से किसानों की मांग को सर्वथा प्रथमवार भारत सरकार ने निर्णय लेते हुए अपने वादे को पूरा किया है इससे किसानों में खुशहाली की लहर दौड़ पड़ी है। इस ऐतिहासिक निर्णय के प्रतिफल में आच्छादन में वृद्धि होगी साथ ही साथ किसानों के परिवार में खुशहाली एवं सम्पन्नता आयेगी। सरकार का संकल्प है कि वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी की जाय इसके क्रम में उत्पादन बढ़ाने, लागत घटाने एवं कृषकों को उचित मूल्य दिलाने के लिए सरकार ने हर क्षेत्र में सघन प्रयास किये है। कृषकों ने उपज बढ़ाने का हर सम्भव प्रयास किया है जिसका परिणाम भी दिखने लगा है किन्तु मूल्य के प्रति एक उदासीनता बनी रहती थी। वर्तमान सरकार के निर्णय ने सभी अटकलो को समाप्त करते हुए ऐतिहासिक निर्णय पर अपनी मोहर लगा दी है जिससे अब किसानों को फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य उत्पादन लागत का डेढ़ गुना या उससे अधिक प्राप्त होगा। इससे किसानों की आय में वृद्धि होगी क्योंकि अब उन्हें प्रति कुन्तल पर पहले से अधिक मूल्य मिलेगा। बढ़े हुए मूल्य से किसानों को आर्थिक मजबूती मिलेगी। देश में उत्पादन बढ़ेगा, निवेश को बढ़ावा मिलेगा, आयात पर कम खर्च होगा और पौष्टिक सुरक्षा बढ़ेगी।
कृषि मंत्री ने बताया कि अब खरीफ फसलों के लिये बढ़े हुए मूल्य में मुख्य रूप से धान की सामान्य फसलें जिसमें उत्पादन लागत 1166 रुपये प्रति कुन्तल आंकी गयी है वही सरकार ने इसका समर्थन मूल्य 1750 रुपये प्रति कुन्तल किया है जो उत्पादन लागत का 50 प्रतिशत है। इसी प्रकार ज्वार में उत्पादन लागत 1619 रुपये प्रति कुन्तल पर 2430 रुपये, बाजरा पर उत्पादन लागत 990 रुपये प्रति कुन्तल न्यूनतम समर्थन मूल्य 1950 रुपये तथा उत्पादन लागत पर 97 प्रतिशत वृद्धि की है जो अब तक का सर्वाधिक मूल्य है।
उन्होंने बताया कि दलहनी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 50 से 60 प्रतिशत की वृद्धि करते हुए किसानों की मांग को पूरा किया गया है। अब किसान दलहनी एवं तिलहनी फसलों की तरफ आकर्षित होंगे, परिणामस्वरूप दाल एवं तेल के उत्पादन में अपेक्षित वृद्धि होगी।

प्रदेश के कृषि राज्य मंत्री रणवेन्द्र प्रताप सिंह ने बताया कि मोदी सरकार द्वारा किसानों से किये गये वादे के अनुसार किसानों के विभिन्न फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में ऐतिहासिक वृद्धि की है, जो प्रति कुन्तल लागत मूल्य का कम से कम 50 प्रतिशत से 97 प्रतिशत तक है। विभिन्न खरीफ फसलों के प्रति कुन्तल मूल्य में कम से कम 180 रुपये प्रति कुन्तल से 1857 रुपये प्रति कुन्तल तक वृद्धि की गयी है।


प्रधानमंत्री 29 जुलाई को 60,000 करोड़ रु0 के  निवेश सम्बन्धी विभिन्न प्रोजेक्ट्स का करेंगे शुभारम्भ

प्रधानमंत्री 29 जुलाई को 60,000 करोड़ रु0 के निवेश...

प्रधानमंत्री 29 जुलाई को 60,000 करोड़ रु0 के निवेश सम्बन्धी...

कवि गोपालदास नीरज के पार्थिव शरीर पर  कुछ तथाकथित लोगों के दावेदारी करने से मचा घमासान

कवि गोपालदास नीरज के पार्थिव शरीर पर कुछ...

कवि गोपालदास नीरज के पार्थिव शरीर पर कुछ तथाकथित...

प्रदेश में मिट्टी का कार्य करने वाले कारीगरों के सामाजिक व आर्थिक विकास में वृद्धि करना बोर्ड का मुख्य उद्देश्य- नवनीत सहगल

प्रदेश में मिट्टी का कार्य करने वाले कारीगरों...

प्रदेश में मिट्टी का कार्य करने वाले कारीगरों...

ये क्या ? थानेदार ने अपने ही खिलाफ दर्ज कराई शिकायत...

ये क्या ? थानेदार ने अपने ही खिलाफ दर्ज कराई...

ये क्या ? थानेदार ने अपने ही खिलाफ दर्ज कराई शिकायत...

संभल में मानवता को शर्मशार करने वाली एक और घटना घटी

संभल में मानवता को शर्मशार करने वाली एक...

संभल में मानवता को शर्मशार करने वाली एक और घटना...

परिवार नियोजन को घर-घर तक पहुंचाने में बदलाव लाने का काम कर रही हैं पूजा देवी

परिवार नियोजन को घर-घर तक पहुंचाने में...

परिवार नियोजन को घर-घर तक पहुंचाने में बदलाव लाने...

ExpressNews7