Expressnews7

नए साल के मौके पर दिल्ली को दहलाना चाहते थे,अमरोहा से गिरफ्तार आईएस आतंकी

नए साल के मौके पर दिल्ली को दहलाना चाहते थे,अमरोहा से गिरफ्तार आईएस आतंकी

2018-12-26 17:51:03
नए साल के मौके पर दिल्ली को दहलाना चाहते थे,अमरोहा से गिरफ्तार आईएस आतंकी

NEW DELHI--मुरादाबाद के अमरोहा में आईएस मॉड्यूल के भंडाफोड़ के बाद कई अहम खुलासे हुए हैं। दिल्ली पुलिस ने आईएस के उस मंसूबे पर पानी फेर दिया जिसके तहत वह नए साल के मौके पर दिल्ली को दहलाना चाहता था। आईएस का मकसद मुस्लिम युवाओं को बहला फुसला कर उन्हें जेहाद के लिए तैयार करना रहा है।
एनआईए ने साल 2009 से करीब 91 जिहादी सेल का खात्मा किया है। इनमें से 63 मामले तो 2015 में ही सामने आए। 24 केस तो अकेले आईएस से जुड़े हुए थे। इनमें 23 जिहादी सेल कश्मीर से ही जुड़े थे जबकि 43 दूसरी जगहों से थे।
बुधवार को हुई गिरफ्तारी बताती है कि इनसे देश को किस कदर खतरा है। एनआईए के सूत्र बताते हैं कि दिल्ली में जन्मे मौलवी मुफ्ती मो. सुहैल जिसका कोड नेम हजरत है, वह अमरोहा में मस्जिद के जरिए युवाओं को जिहाद के लिए बरगला रहा था।
इससे पहले 17 मार्च 2017 को भोपाल-उज्जैन बस में धमाके की घटना के बाद कोई बड़ी घटना नजर नहीं आई थी। इस बार मामला अलग था। इंटरनेट रिसर्च का सहारा लिया गया और बताया जा रहा है कि इन आतंकियों ने 25 किलो पोटेशियम नाइट्रेट जमा कर लिया था। इनके कब्जे से 12 पिस्टल, 150 राउंड गोलियां और छोटे रॉकेट लॉन्चर भी मिले।
पहली बार आईएस के पास से इतने घातक हथियार मिले हैं। हालांकि तेलंगाना पुलिस ने कुछ समय पहले ही आईएस के अपनी तरह के नए किस्म के मॉड्यूल का खुलासा किया था। लेकिन नए साल पर साजिश का ये प्लान कुछ अलग ही दिख रहा है।
मो. सुहैल भले ही एक मौलवी हो लेकिन उसका सहयोगी साकिब इफ्तेखार ऐसा नहीं था। दिल्ली निवासी अनस यूनुस ने बम के लिए इलेक्ट्रानिक सामान खरीदा था। उसने नोएडा के एस विश्विद्यालय से सिविल इंजीयनियरिंग की है। जुबैर मलिक जिसने कथित रूप से सिम कार्ड खरीते वह भी नई दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ता है। उसका भाई जायद मलिक पर भी सिम खरीदने का आरोप है और वह भी यूनिवर्सिटी में पढ़ चुका है।
सरकारी आंकडे़ बताते हैं कि आएस की विचारधारा से ऐसे लोग जुड़ रहे हैं जो अच्छे परिवारों से हैं। 68 फीसदी आरोपी मिडिल क्लास परिवारों से हैं और उनके पास डिग्री है। तीन महीने पहले ही अल कायदा से जुड़ा तौफीक नाम का शख्स मुठभेड़ में मारा गया था। उसका पिता एटोमिक एनर्जी हैवी वाटर प्लांट मनुगुरू में काम करता था। तौफीका का कभी भी किसी इस्लामिक राजनेता से संपर्क नहीं था।
इसी तरह 2016 में अमान टंडेल नाम के युवक का वीडियो दिखा जिसमें वह हाथ में तलवार लिए बाबरी मस्जिद को ढहाए जाने, मुजफ्फरनगर, गुजरात दंगों का बदला लेने की बात कह रहा था। ये युवा बाबरी की घटना के बाद ही पैदा हुए थे। इनमें बदले की भावना एक नए ट्रेंड को जन्म दे रही है।


मुरादाबाद से लड़ेंगे राज बब्बर, 21 उम्मीदवारों की दूसरी सूची कांग्रेस ने जारी

मुरादाबाद से लड़ेंगे राज बब्बर, 21 उम्मीदवारों...

मुरादाबाद से लड़ेंगे राज बब्बर, 21 उम्मीदवारों...

समाजवादी पार्टी ने दो और उम्मीदवारों के नामों का किया एलान

समाजवादी पार्टी ने दो और उम्मीदवारों के...

समाजवादी पार्टी ने दो और उम्मीदवारों के नामों...

पाकिस्तान को \'खुश\' कर रहे हैं बालाकोट पर हवाई हमले के सबूत मांगने वाले- मोदी

पाकिस्तान को 'खुश' कर रहे हैं बालाकोट पर...

पाकिस्तान को 'खुश' कर रहे हैं बालाकोट पर हवाई हमले...

धान खरीद का नया कीर्तिमान स्थापित,48.20 लाख मीट्रिक टन खरीदा गया धान

धान खरीद का नया कीर्तिमान स्थापित,48.20 लाख...

धान खरीद का नया कीर्तिमान स्थापित,48.20 लाख मीट्रिक...

पीएम मोदी ने संगम में लगाई डुबकी, सफाई और सुरक्षा कर्मियों को किया सम्मानित

पीएम मोदी ने संगम में लगाई डुबकी, सफाई और...

पीएम मोदी ने संगम में लगाई डुबकी, सफाई और सुरक्षा...

संतकबीर नगर में आपस में भिड़े सपाई ,एक की मौत

संतकबीर नगर में आपस में भिड़े सपाई ,एक की...

संतकबीर नगर में आपस में भिड़े सपाई ,एक की मौत

ExpressNews7