Expressnews7

बदमाशो ने फिरौती भी लिया और बच्चो का क़त्ल भी किया

बदमाशो ने फिरौती भी लिया और बच्चो का क़त्ल भी किया

2019-02-25 18:30:57
बदमाशो ने फिरौती भी लिया और बच्चो का क़त्ल भी किया

फास्टट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई, 20 लाख की वसूली थी फिरौती
SATNA--जानकीकुंड परिसर से दिनदहाड़े जुड़वा मासूमों को अगवा करने की साजिश इंजीनियरिंग के छात्रों ने पैसों के लिए रची थी। पुलिस की पूछताछ के दौरान शातिरों ने पूरे घटनाक्रम को कुबूल किया। स्वीकार कि पहचान के भय से मासूमों को मौत के घाट उतार दिया। छात्र इतने शातिर थे कि परिजनों से फिरौती की रकम मांगने के लिए खुद के बजाए राह चलते लोगों से फोन लेकर इस्तेमाल किया। इस घटना के दोषी सभी छह आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है।
रविवार को चित्रकूट में आईजी रींवा चंचल शेषर ने मीड़िया के सामने पूरे घटनाक्रम का खुलासा किया। कहा कि जुड़वा भाइयों को अगवा करने के बाद से डीआईजी रींवा की अगुवाई में एक एसआईटी गठित की गई थी। आईजी ने शातिरों से की गई पूछताछ के बाद घटनाक्रम का सिलसिलेवार खुलासा किया। बताया कि इस वारदात का मास्टर माइंड एक विश्वविद्यालय में बीआईटी कर रहा छात्र पद्म शुक्ला निवासी जानकीकुंड है। पद्म ने ही राजू द्विवेदी निवासी भभुवा थाना मर्का जनपद बांदा के साथ बाइक में आकर जुडवां मासूमों को अगवा किया था। इसके बाद लकी उर्फ आलोक सिंह तोमर निवासी तेंदुरा थाना बिसंडा जनपद बांदा ने इन बच्चों को चार पहिया वाहन से दूसरी जगह शिफ्ट करने में भूमिका निभाई। इनके अलावा ट्यूशन शिक्षक रामकेश यादव निवासी छेरा जिला बांदा व उसका मामा पिंटू उर्फ पिंटा निवासी गुरदहा जनपद हमीरपुर के अलावा विक्रमजीत सिंह निवासी पहलपुर जनपद जमुआ विहार भी वारदात में शामिल रहे।
रामकेश व पिंटू को छोड़कर अन्य सभी चार लोग विश्वविद्यालय के छात्र हैं। आईजी ने बताया कि अपहरण के दो दिन बाद ही इन शातिरों ने परिजनों से एक करोड़ की फिरौती मांगी थी। शातिर जुड़वां मासूमों के ठिकाने लगातार बदलते रहे। अतर्रा में किराए का मकान लेकर बच्चों को रखा था। आईजी ने बताया कि फिरौती की रकम मिलने के बाद शातिरों ने पहचान के भय से बच्चों की हत्या कर दी।
शातिरों ने फोन के जरिए परिजनों से फिरौती की मांग किया था। जिसकी जानकारी परिजनों ने एमपी पुलिस को नहीं दी। आईजी ने बताया कि 19 फरवरी की रात करीब दो बजे बांदा जिले के अतर्रा-ओरन मार्ग पर चौंसड गांव के पास शातिरों ने फिरौती की रकम 20 लाख रूपए मंगवाई थी। एक पुलिया में रकम रखवाने के बाद परिजनों को वापस कर दिया था। भरोसा दिया था कि दूसरे दिन बच्चे भरतकूप के पास मिल जाएंगे, लेकिन शातिरों ने बच्चों को नहीं छोड़ा। फिरौती के संबंध में यूपी पुलिस को जानकारी थी। शातिरों तक पहुंचने में यूपी पुलिस का सहयोग अच्छा रहा है। बताया कि शातिरों के कब्जे से फिरौती के 17.67 लाख रुपये के साथ ही प्रयुक्त चार पहिया वाहन व तीन बाइकें बरामद की गई है।


मुरादाबाद से लड़ेंगे राज बब्बर, 21 उम्मीदवारों की दूसरी सूची कांग्रेस ने जारी

मुरादाबाद से लड़ेंगे राज बब्बर, 21 उम्मीदवारों...

मुरादाबाद से लड़ेंगे राज बब्बर, 21 उम्मीदवारों...

समाजवादी पार्टी ने दो और उम्मीदवारों के नामों का किया एलान

समाजवादी पार्टी ने दो और उम्मीदवारों के...

समाजवादी पार्टी ने दो और उम्मीदवारों के नामों...

पाकिस्तान को \'खुश\' कर रहे हैं बालाकोट पर हवाई हमले के सबूत मांगने वाले- मोदी

पाकिस्तान को 'खुश' कर रहे हैं बालाकोट पर...

पाकिस्तान को 'खुश' कर रहे हैं बालाकोट पर हवाई हमले...

धान खरीद का नया कीर्तिमान स्थापित,48.20 लाख मीट्रिक टन खरीदा गया धान

धान खरीद का नया कीर्तिमान स्थापित,48.20 लाख...

धान खरीद का नया कीर्तिमान स्थापित,48.20 लाख मीट्रिक...

पीएम मोदी ने संगम में लगाई डुबकी, सफाई और सुरक्षा कर्मियों को किया सम्मानित

पीएम मोदी ने संगम में लगाई डुबकी, सफाई और...

पीएम मोदी ने संगम में लगाई डुबकी, सफाई और सुरक्षा...

संतकबीर नगर में आपस में भिड़े सपाई ,एक की मौत

संतकबीर नगर में आपस में भिड़े सपाई ,एक की...

संतकबीर नगर में आपस में भिड़े सपाई ,एक की मौत

ExpressNews7